Plot v/s Flat

  • Home
  • Plot v/s Flat
Plot v/s Flat

Plot v/s Flat

  • 10 October, 2022
  • By Admin: admin
  • Comments: 00

Plot v/s Flat: रियल एस्टेट में इन्वेस्टमेंट हमेशा से ही एक अच्छा विकल्प रहा है | जिसने हमेशा से एक अच्छा return दिया है| जैसा ही हम देख रहे है है की आजकल भारत के लगभग सभी बड़े शहरों में Flats का चलन ज्यादा हो गया है | लेकिन Plots को भी हमेशा एक पसंदीदा विकल्प की तरह देखा गया है| तो कौन सा विकल्प आपके लिए बेहतर है? इसके या फायदे है और क्या नुकसान? | इन सभी चीज़ो की जानकारी आपको यहाँ मिलेगी|

कीमत और Returns: Plot v/s Flat


फ्लैट खरीदने के लिए आपको एक बड़ी राशि की जरूरत होगी या लोन लेना होगा और लंबे समय तक EMI का भुगतान करना होगा। इसका मतलब हुआ कि जैसे ही आप इस घर में रहना शुरू करते हैं, आपको तुरंत EMI का भुगतान करना भी शुरू करना होगा | जबकि Plot को लेना Flat के मुकाबले सस्ता पड़ता है | आपको इस पर निर्माण कार्य के लिए पैसा खर्च करना होगा। प्‍लॉट पर निर्माण कार्य समान आकार के फ्लैट से महंगा पड़ेगा।


फ्लैट या प्‍लॉट को खरीदने की कीमत उसके स्‍थान पर निर्भर करती है। यदि आप मेट्रो में शहरी सीमा के भीतर प्‍लॉट खरीदने पर विचार कर रहे हैं, जहां जमीन सीमित है, और कीमत भी बाकि इलाको ज्‍यादा होगी। प्लाट का एक सबसे बड़ा फायदा होता है की आप अपने घर को अपने अनुसार बना सकते है | जबकि फ्लैट में जैसा बिल्डर आपको बना के देता है उसी के साथ संतुष्ट होना पड़ता है | अपने घर को अपने अनुसार बनाना और सजाना हर किसी का सपना होता है तो जो अपना घर अपने अनुसार बनाना चाहते है उनके लिए एक बेहतर विकल्प होता है|


Plot लेना Flat के मुकाबले सस्ता तो पड़ता है लेकिन यदि तुरंत returns के नजरिये से देखे तो फ्लैट एक अच्छा विकप्ल होता है यदि आप फ्लैट को लेकर तुरंत किराये पर लगा दे तो हर महीने की जो आपकी EMI होगी वो आपके किराये से कवर हो जायेगी और आपको तुरंत returns मिलना स्टार्ट हो जयेगा| वैसा भी देखा जा रहा है की आजकल के युग में कोई भी लम्बे समय तक किसी भी चीज़ का इंतज़ार नहीं कर सकता है | खासकर की आजकल के युवा उन्हें हर चीज़ फ़ास्ट फ़ूड की तरह चाहिए होती Instant Ready | जबकि Plots में तुरंत returns न मिलकर कुछ समय बाद returns मिलते है लेकिन वो returns फ्लैट्स के मुकाबले ज्यादा होते है |

सुरक्षा


यदि आप प्‍लॉट खरीद रहे हैं तो यह सुनिश्चित करना भी बहुत जरूरी है कि वह सभी कानूनी जटिलताओं से मुक्‍त हो। इसके लिए विक्रेता के पास सभी प्‍लॉट संबंधी सभी डीड और दस्‍तावेज होने चाहिए और जमीन से जुड़ा कोई भी विवाद- आपराधिक या दीवानी- नहीं होना चाहिए। कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें लोगों ने सरकारी जमीन या एक ही प्‍लॉट को कई लोगों को बेच दिया है। ऐसा सामन्‍यतौर पर फ्लैट के मामले में नहीं होता है। अधिकांश मामलों में बिल्‍डर द्वारा नगर निकायों से सभी मंजूरियां और कानूनी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद ही अपार्टमैंट का निर्माण किया जाता है, इसलिए ऐसी आशंका अपने आप खत्‍म हो जाती है।

निष्‍कर्ष : Plot v/s Flat

अपनी जरूरतों, वित्‍तीय क्षमता और जिम्‍मेदारियों का बेहतर विश्‍लेषण करने के बाद ही आपको बेहतर विकल्‍प चुनना चाहिए। यदि आप कुछ वर्षों के लिए अपने धन को निवेश करने की सोच रहे हैं, तो ऐसे में आपको ऐसे स्‍थान पर प्‍लॉट देखना चाहिए जहां भविष्‍य में उसके दाम बहुत ज्‍यादा बढ़ने की संभावना हो, यह आपके लिए ज्‍यादा अच्‍छा होगा। यदि आप नियमित रिटर्न चाहते हैं, तो आपको फ्लैट में निवेश करना चाहिए।

अगर आप भी दिल्ली में घर लेना चाहते है । तो एक बार जरूर Visit करे! अपनी visit schedule करने के लिए यहां क्लिक करे: SCHEDULE YOUR SITE VISIT 

Contact us on the following details for the Site Visit-

Leave Comments

Call Now Button